गुरुवार, 26 मई 2011

ख्वाहिश


                
अभी कुछ और करना है, इरादे रोज करता हूँ..
इसी ख्वाहिश में  जीता हूँ इसी ख्वाहिश में मरता हूँ |

सितारों की चमक में खो गयी है चंद तस्वीरे..
इन्ही धुंधले  हुए ख्वाबो में, अब भी रंग भरता हूँ |

मेरे ख्वाबो की तन्हाई, तुम्हे मेरे पास ले आई..
मै अपने दिल से जीता हूँमै तेरे मन का दिखता हूँ |

तेरे हालत को समझूँ  या खुद के दिल को समझाऊं..
तेरे मुझको न खोने की, इसी ख्वाहिश से डरता हूँ|

जवाजे-इश्क की कतरन को ले कर अभी बैठा हूँ..
ये कैसी हर्फे-गुरबत है, मै तेरा नाम लिखता हूँ |

ये कश्ती डूब भी जाए,  मै मंजिल पा ही जाऊंगा..
मेरा हासिल ही तूफा है,मै खुद की राह चुनता हूँ |

अभी कुछ और करना है, इरादे रोज करता हूँ..
इसी ख्वाहिश में जीता हूँ,इसी ख्वाहिश मे मरता हूँ |


जवाजे-इश्क   : justification of love 
 हर्फे-गुरबत: poverty of words 

26 टिप्‍पणियां:

  1. ये कश्ती डूब भी जाए, मै मंजिल पा ही जाऊंगा..
    मेरा हासिल ही तूफा है,मै खुद की राह चुनता हूँ |

    बहुत सुन्दर गज़ल..हरेक शेर एक सुन्दर ख्वाब..

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी कुछ और करना है, इरादे रोज करता हूँ..
    इसी ख्वाहिश में जीता हूँ,इसी ख्वाहिश मे मरता हूँ |

    बहुत खूब....

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी कोशिश को यक़ीनन एक अच्छी कोशिश कहा जाएगा।
    उर्दू के भारी-भरकम अल्फ़ाज़ का इस्तेमाल भी आपने सही किया है।
    शुरूआत में इतना बहुत है। वक्त गुज़रेगा तो पूर्णता और दक्षता सब कुछ आ जाएगी।

    http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/05/dr-anwer-jamal.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. /सितारों की चमक में खो गयी है चंद तस्वीरे..
    इन्ही धुंधले हुए ख्वाबो में, अब भी रंग भरता हूँ |/
    खूबसूरत ख़याल. दाद कबूल करें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये कश्ती डूब भी जाए, मै मंजिल पा ही जाऊंगा..
    मेरा हासिल ही तूफा है,मै खुद की राह चुनता हूँ |
    prerak bhavabhivyakti.badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अभी कुछ और करना है, इरादे रोज करता हूँ..
    इसी ख्वाहिश में जीता हूँ इसी ख्वाहिश में मरता हूँ ..

    Excellent !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब लिखा है आशुतोष भाई.

    ये कश्ती डूब भी जाए, मै मंजिल पा ही जाऊंगा..
    मेरा हासिल ही तूफा है,मैं लहरों पे ही चलता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये कश्ती डूब भी जाए, मै मंजिल पा ही जाऊंगा..
    मेरा हासिल ही तूफा है,मै खुद की राह चुनता हूँ |

    अभी कुछ और करना है, इरादे रोज करता हूँ..
    इसी ख्वाहिश में जीता हूँ,इसी ख्वाहिश मे मरता हूँ |

    बेहतरीन शब्द सामर्थ्य युक्त इस रचना के लिए आभार !!
    हम होंगे कामयाब एक दिन मन में है विश्वास पूरा है विश्वास हम होंगे कामयाब एक दिन!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. देखकर बाधा विवध, बहु विघ्‍न घबराते नहीं। 'कर्मवीर' मनुष्‍य की यही पहचान है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया लगा पढ़कर....


    अभी कुछ और करना है, इरादे रोज करता हूँ..
    इसी ख्वाहिश में जीता हूँ,इसी ख्वाहिश मे मरता हूँ |

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर गज़ल..हरेक शेर एक सुन्दर ख्वाब..

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी ख्‍वाहिशों को सलाम
    आमीन

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहतरीन शब्द सामर्थ्य युक्त इस रचना के लिए आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  14. ये कश्ती डूब भी जाए, मै मंजिल पा ही जाऊंगा..
    मेरा हासिल ही तूफा है,मै खुद की राह चुनता हूँ ..... बेहतरीन !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - अज्ञान

    उत्तर देंहटाएं
  15. अभी कुछ और करना है इरादे रोज़ करता हूँ ,
    तेरे ख्वाबो मेन जीता हूँ तेरे ख़्वाबों में मरता हूँ .बहुत सुन्दर प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  16. लाजवाब ग़ज़ल, उर्दू पर भी अच्छी पकड़ तथा उन्हें सम्प्रेश्नीय बनाने की क्षमता तो वाकई सराहनीय है. प्रत्येक शेर का अपना अंदाज़ निराला है. बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  17. ये अनवर जमाल यहाँ कहाँ से आ गया मरदूद ! लाहौल विला कुवत ! खुद तो शायरी जानता नहीं और सलाह देता है
    बहुत बढिया शायरी है भाईजान ! इसके चक्कर में मत पढ़ना खुद तो डूबेगा ही साथ में आप को भी ले डूबेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  18. अभी कुछ और करना है, इरादे रोज करता हूँ..
    इसी ख्वाहिश में जीता हूँ,इसी ख्वाहिश मे मरता हूँ |
    खुबसूरत शेर दाद को मोहताज नहीं फिर भी दिल ने कहा वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  19. वन्दे मातरम आशुतोष जी,
    बहुत सुन्दर गज़ल..हरेक शेर लाजवाब सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रिय आशुतोष जी खूब बनी -गुल खिलते रहिये शुभ कामनाएं बढ़ते रहिये
    भ्रमर ५

    अभी कुछ और करना है, इरादे रोज करता हूँ..
    इसी ख्वाहिश में जीता हूँ,इसी ख्वाहिश मे मरता हूँ |

    उत्तर देंहटाएं

ये कृति कैसी लगी आप अपने बहुमूल्य विचार यहाँ लिखें ..