गुरुवार, 29 दिसंबर 2011

प्राची की तलाश...


           ये कविता गुरुदेव दीपक बाबा और  उनकी काल्पनिक नायिका 
                                      प्राची  के चरणों में समर्पित है.. 
                                                


मन क्यों उदास है??
शायद इसे किसी की तलाश है!
ये जानता है वो है इससे बहुत दूर,
फिर भी ढूंढता  उसे अपने आस पास है|
मन क्यों उदास है???

                   
शायद ये तलाश मे है उस परछाई के….
                    
जिसे इसके आस्तित्व पर ही अविश्वाश है|
                   
शायद इसे अपनी मुट्ठी मे ,
                   
सूखी रेत को बंद करने की आस है|
                   
मन क्यों उदास है????
वो कही नहीं है,
इसे इसका एहसास है.
फिर भी वो मिलेगा इसे,
इसे इसका विश्वास है|
मन क्यों उदास है???






14 टिप्‍पणियां:

  1. आशु भाई - एक फिल्म थी श्याद ६० के दशक की - नवरंग - श्याम-श्वेत - नायक महिपाल(?) देख लेना कभी मौका मिले तो.

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्राची (नायिका) का जवाब मिल जाएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. शायद इसे अपनी मुट्ठी मे ,
    सूखी रेत को बंद करने की आस है|
    मन क्यों उदास है ...

    रेत को मुट्ठी में बंद करने की ख्वाहिश उदासी ही दे जाती है अक्सर ...
    बहुत खूब लिखा है ...
    आपको नए साल की मुबारकबाद ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. Baba ki Prachi Baba ke ghar main hai....


    ham sab sanjte hai....

    jai baba banaras..............

    उत्तर देंहटाएं
  5. हुम ...मन की उदासी का कोई निवारण नहीं. तुम्हीं ने दर्द दिया है तुम्हीं दवा देना.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन का क्‍या ये तो चंचल होता है.......
    सुंदर अहसास।
    गहरे भाव.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुती बेहतरीन रचना,.....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन ने बहुत नचाया सबको, दिल ने बहुत सताया है.
    ढूंढ -ढूंढ के हुए दीवाने ,किन्तु नहीं अब तक पाया है.
    ढूँढा जब उसे अपने अन्दर, मन मंदिर में बैठा पाया है.
    प्राची हो सकती विलग कैसे? खोजो उसे जहां गवांया है.

    सुंदर गहरे बेहतरीन भाव.....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सहज सरल अभिव्यक्ति दिल से .नव वर्ष मुबारक .

    उत्तर देंहटाएं

ये कृति कैसी लगी आप अपने बहुमूल्य विचार यहाँ लिखें ..