शनिवार, 26 मार्च 2011

कवि के शब्द

ये शब्द मेरे हैं अमर सदा,
ये शब्द नहीं मर सकतें हैं...
हर बार इन्ही शब्दों ने मुझे,
निज संजीवन से जिलाया है...
निष्प्राण सरीखी काया को,
फिर विजय कवच पहनाया है.......


हर बार इन्ही शब्दों ने मुझे प्रेरणा दी है....
इन रिश्तों के कोलाहल में,
अपने मन की कुछ कहने की
अपने मन की कुछ करने की….

इन शब्दों की जननी पीड़ा,
पीड़ा के उर से ये निकले..
ये शब्द मेरे प्रह्लाद सरीखे
हर अग्निपरीक्षा में हैं खरे…..

इन शब्दों की ही महिमा से,
मानवता का है कलुष धुला..
ये शब्द बन गए नीलकंठ,
मुझको पीड़ा का गरल पिला….


इस जलधि शब्द के ये प्रवाह
हर बार मुझे ये कहते हैं..
ये शब्द मेरे हैं अमर सदा,
ये शब्द नहीं मर सकतें हैं….

26 टिप्‍पणियां:

  1. सही है। शब्द में असीम शक्ति होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. @इन शब्दों की जननी पीड़ा,
    पीड़ा के उर से ये निकले..
    ये शब्द मेरे प्रह्लाद सरीखे
    हर अग्नि अग्निपरीक्षा में हैं खरे….

    बहुत गहन शब्दों के सहारे से आपने अपने विचारों को कविता के रूप में संजोया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच कहा आपने।
    शब्‍द कभी मर नहीं सकते।
    शब्‍दों की शक्ति का चित्रण करती बेहतरीन रचना।
    शुभकामनाएं आपको।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर बार इन्ही शब्दों ने मुझे प्रेरणा दी है....
    इन रिश्तों के कोलाहल में,
    अपने मन की कुछ कहने की
    अपने मन की कुछ करने की….
    बहुत ही बेहतरीन बातें बताई आपने..शब्‍द कभी मर नहीं सकते.....
    हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  5. महाशय! अच्छा लिखते हैं आप|

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर रचना । शब्दों में बहुत ताकत होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शाश्वत सत्य की सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. shabdon ki shakti ..ke bare me bahut achchha likha hai aapne...shabd chahe ur ki peeda se nikale ho ya aalhad se..inki shakti asimit hai...sunder rachana...

    उत्तर देंहटाएं
  10. शब्‍द कभी मर नहीं सकते। गाँठ बाँधने योग्य बात वाह सारगर्भित रचना , आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर रचना आशुतोष जी,......शब्दों की शक्ति असीम है .......किसी भी अन्य शस्त्र से ज्याद तीक्ष्ण व घातक शस्त्र है यह....हम सभी जानते हैं कि कितने ही साहित्यकारों ने अपनी लेखनी के बलबूते पर बड़ी-बड़ी क्रांतियों को जन्म दिया है .......बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस जलधि शब्द के ये प्रवाह
    हर बार मुझे ये कहते हैं..
    ये शब्द मेरे हैं अमर सदा,
    ये शब्द नहीं मर सकतें हैं….

    सच कहा है...बहुत खूबसूरत रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  13. धन्यवाद आप सभी का..
    आप सब के शब्दों की महिमा है हमेशा प्रेरणास्रोत है मेरे लिए..

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  14. @ हर अग्नि अग्निपरीक्षा में हैं खरे
    इसको ठीक कर लें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. adbhut bhavnao ko jab sundar shabd milte to isi tarah ke saras kavya ubhar kar aate...... aashu ki kammal... i am impress.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से हमारा नव संवत्सर शुरू होता है. इस नव संवत्सर पर आप सभी को हार्दिक शुभ कामनाएं ……

    उत्तर देंहटाएं
  17. ....बहुत खूबसूरत रचना....आशुतोष जी

    उत्तर देंहटाएं
  18. आशुतोष जी ,
    शब्दों में बहुत ताकत होती है..सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. इन रिश्तों के कोलाहल में,
    अपने मन की कुछ कहने की
    अपने मन की कुछ करने की….

    इन शब्दों की जननी पीड़ा,
    पीड़ा के उर से ये निकले..
    ये शब्द मेरे प्रह्लाद सरीखे
    हर अग्निपरीक्षा में हैं खरे…..

    शब्‍दों की शक्ति का चित्रण करती बहुत सुन्दर रचना, शब्‍द सत्य की सुन्दर अभिव्यक्ति. नव संवत्सर पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं ……

    उत्तर देंहटाएं
  20. ये शब्द मेरे हैं अमर सदा,
    बहुत सुंदर ..
    मेरे घर भी आयें
    http://abhishekinsight.blogspot.com/2011/03/blog-post_07.html

    उत्तर देंहटाएं
  21. मगर विडम्बना यह है की इन सब के बाद भी एक बहुराष्ट्रीय कम्पनी मे कार्यरत हूँ.इस विरोधाभास की सफाई में इतना ही कह सकता हूँ की भूखे पेट और बिना बंदूकों के कोई जंग नहीं जीती जाती..
    इन शब्दों की जननी पीड़ा,
    पीड़ा के उर से ये निकले..
    ये शब्द मेरे प्रह्लाद सरीखे
    हर अग्निपरीक्षा में हैं खरे…..
    आशुतोष जी हम जागरण मंच पर मिले और फिर करीब आते गए बहुत सुन्दर आप के विचार बहुत ही सुन्दर- भड़कने दो ये चिंगारी -जब तक हवन की खुशबू -जन जन के मन- जीवन में प्रविष्ट न हो जाये

    साधुवाद

    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुरेन्द्र जी..
    बहुत बहुत आभार..आशा है आप का सहयोग एवं उत्साहवर्धन भविष्य में मिलता रहेगा..
    धन्यवाद आप का

    उत्तर देंहटाएं
  23. शाश्वत सत्य की सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  24. धार्मिक मुद्दों पर परिचर्चा करने से आप घबराते क्यों है, आप अच्छी तरह जानते हैं बिना बात किये विवाद ख़त्म नहीं होते. धार्मिक चर्चाओ का पहला मंच ,
    यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
    आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
    अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
    इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
    हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
    समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
    हल्ला बोल

    उत्तर देंहटाएं

ये कृति कैसी लगी आप अपने बहुमूल्य विचार यहाँ लिखें ..